Begusarai Bihar Breaking News

जख्मी छात्र के इलाज के दौरान हुई मौत, परिजनों में मचा कोहराम। घटना से आक्रोशित लोगों ने मुआवजे की मांग को लेकर एस एच 55 को किया जाम।

 खोदावंदपुर/बेगूसराय।शुक्रवार की शाम सड़क दुर्घटना में जख्मी छात्र की इलाज के दौरान मौत हो गयी।मौत की खबर सुनते ही उसके परिजनों में कोहराम मच गया। मृतक खोदावंदपुर पंचायत के वार्ड दो निवासी लालू चौपाल के 8 वर्षीय पुत्र आशीष कुमार है। घटना से आक्रोशित लोगों ने मुआवजे की मांग को लेकर बेगूसराय-रोसड़ा मुख्य पथ एस एच 55 को खोदावंदपुर पेठिया के समीप बांस बल्ला लगाकर जाम कर दिया। सड़क जाम के कारण जामस्थल के दोनों ओर दर्जनों छोटे-बड़े वाहनों की लंबी कतारें लग गयी।जिससे राहगीरों को काफी फजीहत झेलनी पड़ी।

सड़क जाम की सूचना मिलते ही पुलिस निरीक्षक दीपक कुमार, चेरियाबरियारपुर थानाध्यक्ष अमर कुमार, प्रभारी थानाध्यक्ष अर्चना झा, अंचलाधिकारी अमरनाथ चौधरी, एएसआई बलवंत कुमार सिंह, समाजसेवी रामगुलजार महतो, अजीत कुमार, राम पदारथ महतो, धर्मेंद्र कुमार, सुरेंद्र कुमार आदि ने जामस्थल पर पहुंचकर आक्रोशित लोगों को समझाने-बुझाने में लगे थे, लेकिन गुस्साए लोग कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे। काफी मशक्कत के बाद परिजनों को उचित मुआवजा दिलवाए जाने के आश्वासन के बाद गुस्साए लोग शांत हुए।तब जाकर जाम हटा और यातायात शुरू हुई।जाम लगभग दो घंटे तक रहा. घटना के संबंध में स्थानीय लोगों ने बताया कि छात्र आशीष उत्क्रमित मध्य विद्यालय प्रखंड कॉलोनी से पढ़कर वापस अपने घर लौट रहा था। तभी कृषि विज्ञान केंद्र के समीप मुख्य पथ पर मैक्सिमो मैजिक की ठोकर से वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया। जख्मी छात्र को उसके परिजनों ने इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खोदावन्दपुर में भर्ती कराया, जहां चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद गंभीर हालत देख कर उसे बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल बेगूसराय रेफर कर दिया।परिजनों ने जख्मी बच्चा को ईलाज के लिए बेगूसराय के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां इलाज के दौरान उसने अपना दम तोड़ दिया। छात्र आशीष की मौत से उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। मृतक की मां कविता देवी एवं पिता लालू चौपाल अपने बेटे के शव से लिपट कर दहाड़ मार कर रो रहे है।मृतक के उसके छोटे भाई हरदीप कुमार एवं बहन नीतू कुमारी अपने बड़े भाई के शव को देखकर फफक फफककर रो रही है।जामस्थल पर मौजूद लोगों के आंखों में भी आंसू थमने का नाम नहीं ले रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.