Begusarai Bihar Blog

नया साल एक नया मौका है अपने जीवन में कुछ कर दिखाने का। बीत चुकी बातों से शिक्षा लेकर आगे बढ़ने का। – रेज फाउंडेशन संस्थापक राकेश कुमार सिंह।

बेगुसराय।। 31 दिसंबर के बीतने पर 1 जनवरी की मध्यरात्रि को अंग्रेजी नव वर्ष का आगमन होता है। अलग-अलग धर्मों में भिन्न-भिन्न समय पर नव वर्ष का आगमन माना जाता है।

नए साल का जश्न तो पूरी दुनिया मनाती है। परन्तु इसके आगमन का उद्देश्य कोई-कोई ही समझ पाता है। नए साल का आना हमें बहुत कुछ सिखाता है।
मौके पर रेज फाउंडेशन संस्थापक भाई राकेश जी ने कहा


नया साल एक नया मौका है अपने जीवन में कुछ कर दिखाने का। बीत चुकी बातों से शिक्षा लेकर आगे बढ़ने का।
मौके पर रेज फाउंडेशन राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय चौधरी ने कहा


पुराने साल का बीत जाना और नए साल का आ जाना हमें सिखाता है कि जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। अगर आज दुःख का समय चल रहा है तो कल सुख का समय भी आयेगा।

मौके पर रेज फाउंडेशन समारोह संचालक मृत्युंजय कुमार सिंह ने कहा
नया साल एक चुनौती है जो हमें आगे बढ़ने के लिये ललकारती है। ताकि हम वो हासिल कर सके जो हम पिछले साल न हासिल कर सके।

बेहतर है नव वर्ष के आने से पहले पुरानी समस्याएँ सुलझा ली जाएँ। वर्ना यह वर्ष भी समस्याओं से ही शुरू होगा।
मौके पर रेज फाउंडेशन सीईओ पल्लवी कुमारी ने कहा
बीते वर्ष में यदि लक्ष्य नहीं प्राप्त हुआ तो शायद नए वर्ष ही आपके नव जीवन का आरंभ हो।

आने वाले कल की तरफ कदम बढ़ाओ बीता हुआ कल खुद-ब-खुद पीछे छूट जायेगा।

नए साल में भी कुछ नहीं बदलने वाला यदि आप अपनी सोच नहीं बदलते।

आने वाले साल के 365 दिन मात्र दिन नहीं, स्वर्णिम अवसर हैं इस वर्ष को यादगार बनाने के लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.